लखनऊ 19 मई 2017, भारतीय जनता पार्टी ने कहा कि अखिलेश सरकार में ‘‘काम-बोलता है‘‘ नारे का सम्पूर्ण सच सीएजी की रिपोर्ट में सामने आया है।
प्रदेश मुख्यालय में पत्रकारों से चर्चा करते हुए प्रदेश प्रवक्ता डॉ0 चन्द्रमोहन ने कहा कि समाजवादी सरकार के मुखिया अखिलेश यादव ने बेरोजगारों को लगातार छलने का कार्य किया। बेरोजगारों को 20 करोड़ वितररित करने में 15 करोड का खर्च किसी कारनामे से कम नही है। अखिलेश यादव के कास्मेटिक विकास का सच जनता के सामने परत दर परत खुल चुका है। अखिलेश की सारी विकास योजनाएं चहेतों को रेवड़ियां बांटने के लिए ही बनाई जाती थी।

प्रदेश प्रवक्ता डॉ0 चन्द्रमोहन ने कहा कि परिवहन निगम में सपा नेताओं की कारगुजारियों के कारण 96.77 करोड़ की राजस्व क्षति होना, खनन घोटाला, उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की कार्यप्रणाली के कारण हवा और पानी ही नहीं, भूजल तक प्रदूषण पहुंचा है। इसलिए योगी सरकार ने प्राधिकरणों और निगमों में भी कैग की जांच के लिए अनुमति देकर सराहनीय पहल की है। भ्रष्टाचार के अड्डे बने निगम, प्रधिकरणों की असलियत भी जनता के सामने आनी चाहिए।

प्रदेश प्रवक्ता डॉ0 चन्द्रमोहन ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने प्रदेश की कमान सम्भालते ही विभागों की प्रस्तुति और समीक्षा के बाद मण्डलीय समीक्षा बैठकों एक पहल करते हुए प्रदेश के विकास का रोडमैप तथ्यार किया जा रहा है। प्रदेश सरकार का भ्रष्टाचार समाप्त करने के लिए ई-टेडरिंग की प्रक्रिया प्रारम्भ करना मील का पत्थर साबित होगी।