लखनऊ 01 मई 2017, भारतीय जनता पार्टी राजनीति को पद प्राप्ति को प्रतिष्ठा सुविधा का साधन नहीं मानती बल्कि इसे दायित्व बोध के साथ जनता की सेवा के लिए परीक्षा का अवसर मानती है। यहां साइंटिफिक कन्वेशन सेन्टर में सोमवार को प्रदेश  भाजपा कार्यसमिति की दो दिवसीय बैठक का शुभारम्भ करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यह उद्गार प्रकट किया।

मुख्यमंत्री ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बाजपेयी की उक्ति दोहराते हुए कहा कि सिद्धान्त विहीन राजनीति  फांसी का फंदा है और ऐसी राजनीति राजनैतिक दलों को मौत के कगार पर ले जाती है। भाजपा सदा सिद्धान्तों की राजनीति करते हुए अन्त्योदय , जनसेवा और राष्ट्र के उत्थान के लिए कार्य करती है। हमारी सरकार इन्ही सिद्धान्तो पर चलते हुए प्रदेश की जनता का जीवन स्तर और प्रदेश का विकास सुनिश्चित कर उत्तर प्रदेश को उत्तम प्रदेश व देश का सर्वश्रेष्ठ प्रदेश बनाने के संकल्प को पूरा करेगी।

उन्होंने कहा कि सिद्धान्त विहीन राजनैतिक दलों ने भाजपा पर साम्प्रदायिकता का आरोप लगाकर अछूत बना दिया था। लेकिन आज उसी भाजपा की नीतियों को दुनिया विश्‍व कल्याण का पथ मान रही है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश के शासन संचालन के लिए जो माडल तैयार किया है, वह देश के साथ दुनिया को आगे ले जाने वाला है। राज्य की भाजपा सरकार मोदी जी की अनुगामी बनकर षासन संचालन के इस माडल से स्वयं को सम्बद्ध करेगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने के बाद पूरे देश में हलचल है। अब देश में परिवारवाद, जातिवाद और तुष्टिकरण की नीति नहीं चलेगी। भाजपा देश और प्रदेश को विकास की नीति पर ले जाएगी। उन्होंने कहा कि राज्य में भाजपा सरकार बनने के तुरन्त बाद जो निर्णय लिए गये वे ऐतिहासिक हैं । पहली बैठक में अधिकारियों को प्रदेश की मां, बहन, बेटियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया। 24 घण्‍टों के भीतर पूरे प्रदेश में एन्टीरोमियों स्क्वार्ड गठन की प्रक्रिया षुरू कर दी गई। इस अच्छे कार्य का भी कुछ लोंगों ने विरोध किया। लेकिन प्रदेश की महिलाओं ने एसएमएस, मेल और फोन से सरकार को इसके लिए समर्थन दिया।

उन्होने कहा कि 2014 में एनजीटी और 2017 में उच्चतम न्यायालय के आदेश के बावजूद पिछली सरकार ने अवैध बूचड़खानों पर कोई कार्रवाई नहीं की। हमारी सरकार आने के तुरन्त बाद ऐसे कत्लखाने बन्द कराये गये। अब प्रदेश में एक भी गैर कानूनी बूचड़ खाना नहीं खुलने दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि पिछली सपा सरकार ने सत्ता के सरंक्षण में अवैध कार्यो को बढावा दिया लेकिन भाजपा सरकार में अवैध काम करने वाले बख्शे नहीं जाएंगे। उंन्होंने कहा प्रदेश में लघु व सीमान्त किसानों का 36 हजार करोड़ का कर्ज माफ किया गया, जिससे 86 लाख किसान लाभान्वित हुए। आलू समर्थन मूल्य घोषित कर उत्पादकों को बडा सम्बल दिया गया। वर्षों से बकाया गन्ना किसानों का भुगतान सुनिश्चित करते हुए भाजपा सरकार ने गन्ना किसानों को 55 सौ करोड़ का भुगतान कर दिया है। साथ ही चालू सीजन में 14 दिन के भीतर गन्ना किसानों के उपज का भुगतान सुनिश्चित किया जा रहा है। प्रदेश में बन्द पड़ी चीनी मिलों को चालू कराने के प्रयास किये जा रहे हैं । ऐसी 4 बन्द चीनी मिलों का पुनरूद्धार कार्य शीघ्र शुरू किये जाएंगे और एक चीनी मिल का विस्तार किया जाएगा। 15 जून तक प्रदेश की सड़कों को गड्डा मुक्त बना दिया जायेगा।

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जनता ने भाजपा को अराजकत और गुन्डाराज के खिलाफ वोट दिया है। इसलिए प्रदेश में कानून का राज स्थापित करना भाजपा सरकार की प्राथमिकता है। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार को विरासत में जर्जर व्यवस्था मिली है जिसे ठीक करने के लिए पूरा मंत्रिमण्डल रात के 12 बजे तक कार्य कर रहा है। जल्द ही प्रदेश में जर्जर बिजली के पोलो और तारों को बदल दिया जायेगा ताकि जिला मुख्यालयों पर 24 घण्टे, तहसील मुख्यालयों पर 20 घण्टे और ग्रामीण क्षेत्रों में 18 घण्टे विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित हो।

उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार भ्रष्टाचार पर जीरो टालरेंस रख रही है। पिछली सपा बसपा सरकारों ने सरकारी संसाधनों, खनिज सम्पदा की लूट मचा रखी थी। अब ऐसा नहीं चलेगा। छोटे बडे सभी ठेको के लिए ई-टेन्डरिंग अनिवार्य कर दी गई है ताकि ठेको से माफियागीरी खत्म हो जाय। खनन की नई नीति जारी की जाएगी। खनिज पट्टों की सैटेलाइट मैपिंग कराई जाएगी ताकि मंत्री अपने आफिस में बैठक प्रदेश की खनिज सम्पदा के एक-एक कण की निगरानी कर सकें । 100 दिन का कार्यकाल पूरा होने पर सरकार जनता को हिसाब देगी जिसमें सार्थक परिणाम दिखेंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने देश की गरीब जनता के कल्याण के लिए बडी संख्या में कार्यक्रम व योजनाएं शुरू की लेकिन पिछली सरकार नें आम जनता के विकास के लिए बनाई गई इन योजनाओं को प्रदेश में लागू ही नहीं किया और प्रदेशवासी मोदी सरकार की इन योजनाओं से लाभ से वंचित रह गये।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी ने देश की नदी संस्कृति, जनसंस्कृति व जीवन को बचाने के लिए नामामि गंगे परियोजना शुरू की लेकिन प्रदेश की सपा सरकार ने इस परियोजना को उत्तर प्रदेश में लागू ही नहीं किया। मां गंगा प्रदेश के 15 जिलों में 1 हजार किलो मीटर की यात्रा करती हैं। इन जिलों में गंगा के किनारे बसे गांवों, बस्तियों में मां गंगा की निर्मलता के लिए शपथ दिलाई जाएगी। भाजपा सरकार बनने के बाद गंगा स्वच्छता के लिए 4 हजार करोड़ की परियोजनाएं स्वीकृत करायी गई हैं और उनका कार्य प्रारम्भ कर दिया गया है। इसके आलावां उर्जा बचत के लिए प्रदेश में एलईडी स्ट्रीट लाइट तेजी से लगाए जाएंगे और प्रदेश में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के स्वच्छता अभियान में सरकार के साथ संगठन को भी जोड़ा जाएगा। उन्होंने आह्वन किया कि पार्टी के नेताओं का स्वागत फूल माला से करने के बजाय किसी एक मोहल्ले या गांव में स्वच्छता अभियान चलाकर वहां उस नेता को ले जाकर करें

योगी आदित्य नाथ ने कहा कि जिलों के प्रभारी मंत्री जिला योजना समिति के अध्यक्ष के रूप में जिले के संतुलित विकास कार्यों को न केवल तेजी से कराऐं बल्कि उसपर निगरानी भी रखें। मुख्यमंत्री ने कहा कि भाजपा सरकार जल्द ही तहसील दिवस को सम्पूर्ण समाधान दिवस के रूप में बदलेगी। तहसील दिवस पर एक ही छत के नीचे एक ही दिन में आम जनता की आवष्यक कार्यों का समाधान प्रदान किया जाएगा। इसको मुख्यमंत्री हेल्प लाइन से जोड़ा जायेगा। हेल्प लाइन पर शिकायत मिलने पर मुख्यमंत्री स्वयं वीडियों कान्फ्रेसिंग से शिकायताकर्ता और सम्बधित अधिकारी को एक साथ समस्या का समाधान कराएंगे। उन्होंने पार्टी के कार्यकर्ताओं से आह्वन किया कि केन्द्र व राज्य सरकार की योजनाओं और नीतियों को जनता तक पहॅुचाकर लाभ दिलाने में संगठन मदद करे। बीपीएल परिवारों को निःषुल्क बिजली कनेक्‍शन दिलाने में कार्यकर्ता भूमिका निभायें तथा बिजली चोरी रोकने और बिजली बिल का भुगतान करने के लिए जनता में जागरूकता फैलाएं। कानून हाथ में लेने के बजाय समस्या सरकार तक पहॅुचायें ताकि उसका त्वरित समाधान हों। उन्होंने कार्यकर्ताओं से आवाह्न किया कि आगामी स्थानीय निकाय चुनाव की तैयारियों के साथ ही 2019 के लोक सभा चुनाव के लिए अभी से कमर कस लें।

राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं प्रदेश प्रभारी श्री ओम माथुर ने अध्यक्षीय भाषण में कहा कि उत्तर प्रदेश चुनाव नतीजे से विपक्षी दल व बडे-बडे राजनैतिक विश्‍लेषक हैरत में थे। भाजपा का यह विजय असल में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के गरीबों के कल्याण के कार्यक्रमों, नीतियों और कार्यों के प्रति जनता का भरोसा था। साथ ही राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह के कुशल संगठनिक मार्गदर्शन परिणाम भी था। उन्होंने कहा कि पिछले तीन सालों में प्रधानमंत्री मोदी ने देश में गरीबों के कल्याण के लिए एक मानसिकता तैयार की है और जनता में एक भरोसा जगाने में कामयाबी हासिल की है।

उन्होंने कहा कि इस चुनाव में कार्यकर्ताओं ने जाति, क्षेत्र या चेहरा देखे बिना सिर्फ कमल के फूल को विजयी बनाने के लिए अथक परिश्रम किया। यह विजय उन कार्यकर्ताओं के निःस्वार्थ प्रयासों का प्रतिफल है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने एक नया नारा दिया है कि न बैठूगा और न बैठने दूंगा। इस नारे पर कार्य करते हुए कार्यकर्ता 15 दिन विस्तारक बनकर पार्टी से नये लोगों को जोड़ने और केन्द्र व राज्य सरकार की बातों को पहुंचाने में जुट जायें। उन्होंने कहा कि स्थानीय निकाय और सहकारी समितियों के चुनाव निकट है। पार्टी कार्यकर्ता इन चुनावों को जिताने के लिए जुटें। साथ ही कार्यकर्ता आचरण, व्यवहार व सदाचार से समाज में आदर्श प्रस्तुत करें। उन्होंने कहा कि कार्यकर्ता अपने-अपने क्षेत्रों में सरकार की योजनाओं का क्रियान्वयन बेहतर ढंग से कराने के लिए संगठित रूप से सरकार का सहयोग करे।

इससे पूर्व पं दीन दयाल उपाध्याय एवं श्यामा प्रसाद मुखर्जी के चित्र पर माल्र्यापणोंपरान्त दीप प्रज्ज्वलन कर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य, उप मुख्यमंत्री डॉ0 दिनेश शर्मा एवं राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं प्रदेश प्रभारी ओम प्रकाश माथुर ने उद्घाटन सत्र का औपचारिक प्रारम्भ किया। बन्देमातरम् गायन के साथ सत्र प्रारम्भ हुआ। देश महामंत्री सलिल विष्नोई ने संचालन किया।

कार्यसमिति में प्रमुख रूप से प्रदेश महामंत्री (संगठन) सुनील बंसल, केन्द्रीय मंत्री डा0 महेश शर्मा, कृष्णा राज, साध्वी निरंजन ज्योति, संजीव बालियान, डा0 महेन्द्र नाथ पाण्डेय, राष्ट्रीय अनुसूचित मोर्चा के अध्यक्ष विनोद सोनकर, राष्ट्रीय किसान मोर्चा के अध्यक्ष वीरेन्द्र सिंह मस्त, राष्ट्रीय महिला मोर्चा महामंत्री कमलावती सिंह, पूर्व अनुसूचित मोर्चा अध्यक्ष दुष्यंत गौतम, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष डा0 रमापति त्रिपाठी, विनय कटियार, डा0 लक्ष्मीकांत बाजपेयी, लालजी टण्डन, प्रेमलता कटियार।

उ0प्र0 के मंत्री सूर्यप्रताप शाही, राजेश अग्रवाल, श्रीकांत शर्मा, धर्मपाल सिंह, रमापति शास्त्री, दारा सिंह चौहान, स्वाति सिंह, अनुपमा जायसवाल, सुरेश राणा, सुरेश खन्ना, डा0 महेन्द्र सिंह, मुकुट बिहारी वर्मा, स्वतंत्र देव सिंह, आशुतोष टण्डन, उपेन्द्र तिवारी, चौ0 भूपेन्द्र सिंह, अतुल गर्ग आदि अनेक माननीय मंत्रीगण तथा क्षेत्रीय संगठन मंत्री बृज बहादुर, चन्द्रशेखर जी, भावनी सिंह, रत्नाकर जी, शिवकुमार पाठक, ओम प्रकाश जी, प्रदुम्म जी, मुख्यालय प्रभारी भारत दीक्षित, मोर्चा प्रभारी अशोक तिवारी, सह प्रभारी चौ0 लक्ष्मण सिंह, अतुल अवस्थी, महापौर सुरेश अवस्थी, लखनऊ महानगर अध्यक्ष मुकेश शर्मा, लखनऊ जिलाध्यक्ष राम निवास यादव, प्रदेश मीडिया प्रभारी हरिश्चन्द्र श्रीवास्तव, प्रदेश प्रवक्ता मनीश शुक्ला, शलभ मणि त्रिपाठी, डा0 मनोज मिश्रा, डा0 चन्द्रमोहन, राकेश त्रिपाठी, सह मीडिया प्रभारी हिमांशु दुबे, आलोक अवस्थी, समीर सिंह, प्रदेश संपर्क प्रमुख मनीष दीक्षित, सह संपर्क प्रमुख नवीन श्रीवास्तव, तरूणकांत त्रिपाठी आदि अनके प्रमुख लोग उपस्थित थे