लखनऊ 12 जुलाई 2017, भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी ने योगी सरकार के पहले बजट को उत्तर प्रदेश के भविष्य का बजट बताया। श्री त्रिपाठी ने विपक्ष की मायूसी पर चुटकी लेते हुए कहा कि विपक्षी दलों की मायूसी चुनावी हार से उपजी हुई है। विपक्षी हार की हताशा से बाहर नहीं निकल पा रहे है। बजटीय प्रावधानों में कोई खामियां नहीं मिलने पर विपक्ष की मायूसी और बढ़ गई है। अखिलेश यादव बजट के मौके पर विदेश में थे, जिससे सपाईयों का मायूस होना स्वाभाविक है। बजट में मूर्ति, पत्थरों के पार्क व स्मारकों के लिए प्रावधान ना होने से बसपा सुप्रीमों मायावती जी का मायूस हो जाना स्वाभाविक है।

श्री त्रिपाठी ने कहा कि योगी सरकार ने पहले ही बजट में चुनावों में घोषित लोक कल्याण संकल्प पत्र के संकल्पों को समाहित करने का साहसिक प्रयास किया है। दीन पर दयालुता लुटाने वाला बजट पूरी तरह गांव, गरीब व किसानों को समर्पित है। भाजपा के शालाका पुरूष पंड़ित दीन दयाल उपाध्याय जी की जन्मशताब्दी वर्ष को गरीब कल्याण वर्ष के रूप में मनाते हुए भाजपा सरकार का बजट दीन दयाल जी ‘अन्त्योदय’ विचार से प्रेरित है।

कर्जमाफी तो किसानों को बदहाली के दलदल से बाहर निकालने का तात्कालिक हल है, दीर्घकालिक तौर पर किसानों की खुशहाली के लिए कई ठोस कदम भी उठाए गए हैं। यह बजट लोक कल्याण के संकल्प पर खरा है।