पिछली सरकारों का ऐजेंडा गांव, गरीब, किसान नहीं, बल्कि परिवार था – योगी आदित्यनाथ

लखनऊ 08 जून 2018, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखीमपुर जिले के लाहोरी नगर गांव में ग्राम चौपाल लगाकर ग्रामीणों से सीधा सम्वाद किया। मुख्यमंत्री ने जनता से सीधे रूबरू होकर केन्द्र व प्रदेश सरकार द्वारा चलाई जा रही जनकल्याण की योजनाओं की गांव, गरीब तक पहुंच की जानकारी ली। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रधानमंत्री आवास, शौचालय निर्माण, पेयजल, वृद्धावस्था पेंशन, दिव्यांग पेंशन, उज्जवला योजना, विद्युत कनेक्शन सहित विभिन्न योजनाओं के विषय में ग्रामीणों से बात कर स्थलीय जानकारी ली।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ग्राम चौपाल में कहा ने जनता से संवाद स्थापित करते हुए कहा कि मोदी जी के प्रधानमंत्री बनने के बाद योजनाएं गांव तक पहुंच रही है, लेकिन इससे पहले योजनाएं गांव, गरीब तक नहीं पहुंचाती थी। क्योंकि पहले की सरकारों के ऐजेंडे में गांव, गरीब, किसान नहीं था, दलित वंचित नहीं था, उनके एजेंडे में जाति थी और उनका परिवार था। उन्होंने अपना हित किया लेकिन गरीब और किसान का हित नहीं किया। 2014 से पूर्व लोगों को सिलेन्डर भराने के लिए लाइन लगानी पड़ती थी, पुलिस की लाठियां खानी पड़ती थी, लेकिन आज प्रत्येक व्यक्ति को आसानी से सिलेन्डर मिल रहा है। अकेले उ0प्र0 में 72 लाख 50 हजार लोगों को उज्जवला योजना का लाभ मिला है। 2022 तक हर व्यक्ति के पास अपना स्वयं का आवास होगा। उन्होंने कहा कि ग्राम स्वराज अभियान का लाभ पंक्ति के अंतिम छोर पर खड़े व्यक्ति तक पहुंचाना है।

ग्राम चौपाल में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) भूपेन्द्र चौधरी, प्रभारी मंत्री गुलाबो देवी, प्रदेश मंत्री अनूप गुप्ता, सांसद अजय मिश्र टेनी, रेखा वर्मा, विधायक लोकेन्द्र प्रताप सिंह, अरविन्द गिरि, सौरभ सिंह, मंजू त्यागी, रोमी साहनी, जिलाध्यक्ष शरद बाजपेयी आदि उपस्थित रहे।