राजनीतिक दलों में आन्तरिक लोकतन्त्र पर बहस‘ प्रधानमंत्री जी की पहल का स्वागत- डॉ0 महेन्द्र नाथ पाण्डेय

लखनऊ 29 अक्टूबर 2017, भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ0 महेन्द्र नाथ पाण्डेय ने प्रधानमंत्री जी द्वारा राजनैतिक दलों में आन्तरिक लोकतंत्र पर बहस की पहल का स्वागत किया है। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि यह बहुत ही अहम है कि लोकतन्त्र के संवाहक राजनैतिक दलों में आन्तरिक लोकतंत्र हो। डॉ0 महेन्द्र नाथ पाण्डेय ने कहा कि आज देश में अनेक दल वंशवाद और परिवार के माध्यम से पोषित हो रहे है जो सामंतवादी व्यवस्था का लोकतान्त्रिकरण हैं जिसके परिणाम स्वरूप समूचे देश की लोकत्रात्रिक प्रणाली आयोग्य अक्षम तथा ऐसे लोगों के हाथों में केन्द्रित हुई जिनके पास देश के विकास के लिए देश को श्रेष्ठ व शसक्त बनाने के लिए कोई दृष्टि नही थी।

डॉ0 महेन्द्र नाथ पाण्डेय कहा कि वंशवाद से तथा परिवार वाद पोषित राजनैतिक दल अपनी छदम स्वप्नों के माध्यम से जब सत्ता शासन में आते चले गए तो देश भ्रष्टाचार की गिरफ्त में फंसता चला गया और इन्ही दलों ने समूचे देश को जाति-पांति, धर्म क्षेत्र भाषा व वर्ग की कुत्सित राजनीति में झोंकने का कार्य किया जिसका परिणाम हुआ जिस देश को बेहतर शिक्षा व्यवस्था, अच्छी स्वास्थ सेवाएं स्वच्छता, अच्छी सड़के, अच्छे यातायात के साधन, कानून का राज, भ्रष्टाचार मुक्त, अपराध मुक्त, पारदर्शी व्यवस्था, औद्योगिक विकास, युवाओ को रोजगार तथा बेहतर खेल सुविधाएं नहीं उपलब्ध हो सके । अन्यथा आज भारतवर्ष दुनियां को नेतृत्व कर रहा होता उसे छला गया है और वह राष्ट्र गरीबी, बदहाली व वेरोजगारी झेलता रहा।

डॉ0 महेन्द्र नाथ पाण्डेय ने कहा कि समय की आवश्यकता है मीडिया आदरणीय प्रधानमंत्री जी की पहल को साकार करे दलों के आन्तरिक लोकतन्त्र तथा नेतृत्व के विकास विषय पर बहस को आगे बढाए ताकि वंशवाद तथा परिवारवाद जैसी राजनैतिक बुराइयों के चुंगल से देश मुक्त हो और सभी राजनैतिक दलों में सुयोग्य और उर्जावान नेतृत्व राष्ट्रीय राजनति के पटल पर आ सके जिससे देश की उन्नति हो देश समृद्ध व शसक्त हो, भ्रष्टाचार मुक्त, अपराधमुक्त, जातिवाद मुक्त के लिए नितान्त आवश्यक है कि राजनीितक दल आन्तरिक लोकतंत्र पर आधारित हो ताकि सभी राजनीतिक दलों में सुयोग्य उर्जावान नेतृत्व उभर सकेगा।