राहुल गांधी जबाब दें चिदम्बरम के साथ है या उनपर कार्यवाही करेंगे या उन पर चुप्पी साधे रहेगें – डॉ० महेन्द्र नाथ पाण्डेय

-सहकारिता चुनाव में भारी सफलता पर हर्ष व्यक्त किया।

-प्रदेश पदाधिकारियों को मोर्चों का प्रभारी बनाया गया।

लखनऊ 13 मई 2018, भारतीय जनता पार्टी प्रदेश मुख्यालय में प्रदेश अध्यक्ष डॉ० महेन्द्र नाथ पाण्डेय ने पत्रकारों से वार्ता करते हुए कांग्रेस शासनकाल में लम्बे समय तक वित्तमंत्री रहे पी. चिदम्बरम व उनके परिवार पर आयकर विभाग द्वारा आरोप पत्र दाखिल किये जाने के बाद उन पर निशाना साधा। प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि किसी भी जन प्रतिनिधि से यह अपेक्षा की जाती है कि वह अपने एक-एक पैसे का हिसाब आयकर विभाग को दे पर कांग्रेस सरकार में लम्बे अरसे तक मंत्री पद पर रहे पी. चिदम्बरम भ्रष्टाचार में आंकठ डूबे पाये गए। कालाधन पर सवाल करने वाले कांग्रेस से चिदम्बरम जैसे उनके वरिष्ठ नेता के बारे में सवाल पूछा।

उन्होने बताया कि मोदी सरकार में 2015 में कालेधन पर जीरो टालरेंस की नीति पर चलने के उद्देश्य से ब्लैक मनी एण्ड इम्पोजिंग ऑफ टैक्स एक्ट बनाया ताकि कालेधन व आयकर की जानकारी समय पर आयकर विभाग को उपलब्ध कराये परन्तु पी. चिदम्बरम व उनके पत्नी, पुत्र व पुत्रवधु की विदेशो में जमा सम्पत्तियों की जानकारी, जिसमें ब्रिटेन के कैम्ब्रिजशहर में 5.37 करोड़ की जायदाद ब्रिटेन में 80 लाख की एक अन्य जायदाद, इसके अतिरिक्त 3.28 करोड़ की अमेरिका में स्थित सम्पत्ति तथा उनके पुत्र ने चेस ग्लोबल एडवाइजरी फर्म के बारे में कभी आयकर विभाग को जानकरी नहीं दी जबकि वह स्वयं उच्चतम न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ता है।

प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि यह इस बात का प्रमाण है कि कांग्रेस के शासनकाल में किस तरह जनता के धन की लूट उनके तमाम नेताओं व चहेतो ने किया था। उन्होने कांग्रेस खासतौर से कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी से स्पष्ट शब्दों में सवाल किया है कि राहुल बताये कि अब जबकि आयकर विभाग द्वारा उनकी सरकार में वरिष्ठ मंत्री रहे पी चिदम्बरम पर विदेशो में जमा कई करोड़ की सम्पत्तियों की जानकरी न देने के कारण 4 आरोप पत्र दााखिल हो चुके है। अब वह स्पष्ट करें की वो चिदम्बरम के साथ है या उन पर कार्यवाही करेंगे या उन पर चुप्पी साधे रहेगें, कांग्रेस को अपनी नीति साफ करनी चाहिए। देश की जनता कांग्रेस पार्टी से जबाव मांग रही है।

प्रदेश अध्यक्ष ने आगे सहकहारिता चुनाव में भाजपा को मिली बडी सफलता पर खुशी व्यक्त करते हुए कहा कि सहकारिता में सरकारों का आना जाना हुआ पर एक खास पार्टी (सपा) का छलबल से दबदबा रहा परन्तु आज लम्बे अरसे बाद भाजपा सरकार ने सहकारिता चुनाव में दिये प्रावधानों के तहत चुनाव पद्धति को अपनाकर चुनाव में हिस्सेदारी की जिसमें प्रभावी सफलता भी अर्जित की है तथा सहकारिता आन्दोलन मजबूत हुआ है। उन्होंने जानकारी देते हुए कहा कि जिला सहकारी बैंक के चुनाव में 50 में 37 पदों पर चुनाव हुए जिनमें 34 निरविरोध 1 स्थगित तथा 2 में चुनाव होने है तथा डीसीएफ के 48 पदों के चुनाव में 40 पर जीत दर्ज की तथा केन्द्रीय उपभोक्ता में 47 में 39 पदो पर जीत हासिल की।

प्रदेश अध्यक्ष डॉ० पाण्डेय ने प्रदेश पदाधिकारियों की बैठक के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि ग्राम स्वराज अभियन की समीक्षा की गई तथा अभियान आशा से अधिक सफल रहा है तथा इस इस अभियान की सफलता के करण यह अभियान आगे भी चलता रहेगा। उन्होंने पदाधिकारियों को सौपी गई जिम्मेदारियों के बारे में बताते हुए कहा कि प्रदेश के पदाधिकारियों को मोर्चा प्रभारी बनाया गया है जिसमें महिला मोर्चा की जिम्मेदारी श्रीमती रंजना उपाध्याय, अनुसूचित जनजाति मोर्चा श्री विद्यासागर सोनकर, पिछडा वर्ग मोर्चा श्री विजय बहादुर पाठक, किसान मोर्चा श्री पंकज सिंह, अल्पसंख्यक मोर्चा श्री सलिल विश्नोई, युवा मोर्चा श्री अशोक कटारिया, अनुसूचित मोर्चा श्री गोबिन्द नारायण शुक्ल को दी गई है।