विपक्षी दलों का लक्ष्य केवल परिवार को पोषित करना – डॉ० महेन्द्र नाथ पाण्डेय

-राजनीतिक दल के नाम पर अपने अपने परिवार के विकास तक ही क्या यह दल सीमित नहीं?

-अखिलेश यादव के बयान पर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष का तंज

-गठबन्धन सत्ता के स्वार्थ तक ही सीमित है जबकि इनकी राजनीति घोर अन्र्तविरोधी तथा सिद्धान्त विहीन

लखनऊ 20 मई 2018, भारतीय जनता पार्टी प्रदेश अध्यक्ष डॉ० महेन्द्र नाथ पाण्डेय जी ने आज सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अखिलेश यादव के बयान पर तंज कसते हुए कहा कि श्री अखिलेश यादव भाजपा को नैतिकता का पाठ पढाने के बजाय अपने दल तथा जिन दलों के साथ वह खडे़ है। उनके सच के साथ जनता के समाने आए। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी का यशस्वी नेतृत्व पूरी दुनिया के सामने स्पष्ट रीति नीति तथा सबके साथ सबके विकास के संकल्प के भारत के 125 करोड़ लोंगो के लिए प्रतिबद्ध होकर कार्यकर रहा है।
उन्होने कहा कि भारत के लोकप्रिय प्रधानमंत्री का लक्ष्य गरीबों, पिछडों, दलितों तथा किसानों को समृद्ध बनाकर श्रेष्ठ भारत का र्निमाण करना है जिसके लिए वह दिन रात कार्य कर रहे है। जबकि विपक्ष का लक्ष्य केवल परिवार को पोषित करना है। डॉ० महेन्द्र नाथ पाण्डेय विपक्षी दलों की राजनीति पर करारा प्रहार करते हुए कहा कि समाजवादी पार्टी श्री मुलायम सिंह यादव तथा अखिलेश तक, कांग्रेस सोनिया गांधी और राहुल गांधी तक, बसपा मायावती तथा उनके भाई आनन्द तक जे.डी.एस. देवेगौडा तथा कुमार स्वामी तक, रालोद चौधरी अजीत सिंह तथा जयन्त चौधरी तक, राजद लालू यादव से तेजस्वी यादव तक इसी तरह की राजनीति कर रहे है। भाजपा अध्यक्ष ने इन दलों को चुनौती देते हुए सवाल किया कि यह दल बताए कि राजनीतिक दल के नाम पर अपने अपने परिवार के विकास तक ही क्या यह दल सीमित नही है?

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि विपक्षी दल के नाम पर तथा कथित गठबन्धन करने वाले इन दलों का सच सत्ता लोलुपत है। यदि कर्नाटक के चुनाव को ले तो सपा ने वहां 28 सीटो पर चुनाव लडा था तथा मायावती ने जेडीएस के साथ कांग्रेस के खिलाफ चुनाव लड़ा था और इन दलों का महज देश की जनता को गुमराह कर सत्ता संस्थान पर काबिज होना है क्योंकि इनके गठबन्धन सत्ता के स्वार्थ तक ही सीमित है जबकि इनकी राजनीति घोर अंतर्विरोधी तथा सिद्धान्त विहीन है।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी राष्ट्रवादी विचार धारा की संवाहक है और देश के सबसे कमजोर वर्ग के लोगो को समृद्व बना कर भ्रष्टाचार मुक्त, आंतकवाद मुक्त जाति-पांति के भेदभाव से मुक्त सशक्त व समृद्व राष्ट्र बनाना है। उन्होंने कहा कि अन्र्त विरोधी स्वार्थ प्रेरित विपक्षी दलों के गठबंधन के सच को आज पूरा देश जानता है। देश की जनता जागरूक है वह इनके भ्रामक बातो में आने वाली नही है।