सपा-बसपा-कांग्रेस की चिरपरिचित पहचान जातिवाद, तुष्टीकरण और वंशवाद की राजनीति के पोषक के तौर पर जगजाहिर – डॉ० महेन्‍द्रनाथ पाण्‍डेय

लखनऊ 05 जून 2018, भारतीय जनता पार्टी प्रदेश अध्यक्ष डॉ० महेन्द्र नाथ पाण्डेय ने अखिलेश यादव के बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि योगी सरकार के खिलाफ साजिश रचते हुए रात के अंधेरे में आलू फिकवाने वाले अखिलेश यादव अपनी बुआ के साथ मिलकर साजिश और षडयन्त्र की राजनीति में लगे हुए है। डॉ० पाण्डेय ने कहा कि भाजपा अन्त्योदय पथ पर बढ़ते हुए प्रदेश के विकास और आमजन की समृद्धि के काम में लगी हुई हैं वहीं दूसरी ओर अखिलेश यादव, मायावती के साथ ठगबन्धन से जुड़ा सारा विपक्ष देश व प्रदेश को जातिवाद व साम्प्रदायिकता की आग में झोंकने की साजिश रच रहा है।

प्रदेश अध्यक्ष डॉ० महेन्द्र नाथ पाण्डेय ने कहा कि सपा-बसपा-कांग्रेस की चिरपरिचित पहचान जातिवाद, तुष्टीकरण और वंशवाद की राजनीति के पोषक के तौर पर जगजाहिर है। जातिवाद, साम्प्रदायिक तुष्टीकरण, भ्रष्टाचार, अपराधी संरक्षण की सपा-बसपाई राजनीति से 14 वर्षो तक प्रदेश आहत रहा है। घर, जमीन, बहु, बेटी, सम्मान और सुरक्षा के प्रति आशंकित प्रदेश ने सपा-बसपाई युति को नकारा है। जिन दलों का जन्म ही जातिवाद की घृणित राजनीति से समाज को तोड़ने के लिए हुआ है वह यदि भाजपा पर आरोप लगाते है तो जनता ऐसे लोगों का मखौल बनाती है।

डॉ० पाण्डेय ने कहा कि साम्प्रदायिक तुष्टीकरण और जातिवादी राजनीति के भयावह काले बादलों को साफ करते हुए नव अरूणोदय के साथ पूरा देश मा0 नरेन्द्र मोदी जी के साथ चल पड़ा है और इसी का परिणाम है कि भाजपा देश के 21 राज्यों में जनता की सेवा कर रही है। वहीं दूसरी ओर कांग्रेस-सपा-बसपा सहित तमाम विपक्ष की जातिवादी राजनीति के पैर जमीन से उखड़ रहे है। सपा-बसपा कभी फतवों से भाजपा के खिलाफ साजिश करती है तो कभी आलू सड़कों पर फिकवाकर षड़यन्त्र रचती है। तात्कालिक तौर पर कुछ समय के लिए उपचुनाव की जीत से बुआ-भतीजे खुश हो सकते है लेकिन 2019 के चुनाव में उ0प्र0 और इस देश की सम्मानित जनता बुआ की तरह भतीजे को भी 2014 के तरह ही जबाव देगी।