भारतीय जनता पार्टी ने सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि आपको हार कारण आपके व परिवार के कारनामे थे न कि किसी का दुष्प्रचार। भाजपा प्रदेश प्रवक्ता मनीष शुक्ला ने कहा कि अखिलेश यादव के अंहकार ने पहले उनकी सरकार को डुबोया अब समाजवादी पार्टी को डूबो रहा है।

श्री शुक्ला ने कहा कि लोकतंत्र में हार-जीत लगी रहती है किन्तु अखिलेश यादव आत्म विश्लेषण के बजाय कभी भाजपा पर आरोप लगाते है तो कभी जनता के विवेक पर प्रश्नचिन्ह लगाते है। अखिलेश जी आपके कार्यकाल में चहुं ओर भ्रष्टाचार था। पांच-पांच आयोगो के चेयरमैनों को सदस्यों सहित माननीय उच्च न्यायालय ने बर्खास्त किया था। सिपाही से लेकर कप्तान तक हत्या हो रही थी। आपके ताऊ के संरक्षण में जवाहरबाग जैसा हत्याकाण्ड होता था। सत्ता के लिए पिता-पुत्र व चाचा का संग्राम जनता ने नंगी ऑंखो से देखा था। परिवार के विकास की चाह में आपने जनता की मूलभूत आवश्यकताओं को नजरअंदाज कर दिया था। जनता ने उसका प्रतिफल विधानसभा के चुनाव में दिया।

प्रदेश प्रवक्ता ने अखिलेश यादव पर तंज कसते हुए कहा कि मुख्यमंत्री पद से हटने के बाद हताशा में अनाप-शनाप बोल रहे है। सत्तालोलुपता इतनी है कि कही भी घुटने टेकने को तैयार है। बसपा सुप्रीमो द्वारा बार-बार झिडकने के बावजूद बबुआ उन्हें बुआ बनाने पर आमादा है। ये सब सिर्फ सत्ता के निकट किसी न किसी बहाने पहुंचने की चाहत है। अखिलेश जी ये पब्लिक है सब जानती है।