भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता मनीष शुक्ल ने कहा कि देश की राजनीति में चरखा दांव के लिए मशहूर पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव को आज उनके ही बेटे ने अपने दांव से राजनीतिक चित कर दिया। श्री शुक्ल ने कहा कि जिन अखिलेश यादव ने अपने पिता मुलायम सिंह यादव को शर्मनाक ढंग से सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से हटाकर खुद को अध्यक्ष घोषित करा दिया हो, वही अखिलेश अब मुलायम को प्रधानमंत्री बनाने का सपना दिखा रहे है।

प्रदेश प्रवक्ता मनीष शुक्ल ने कहा कि अखिलेश यादव अपने पिता मुलायम सिंह यादव को प्रधानमंत्री बनाना चाहते है वहीं इनके नए राजनैतिक मित्र राहुल गांधी भी भारत के प्रधानमंत्री बनने का सपना दिन में ही देख रहे है। इन दोनो राजनैतिक दलों की राजनैतिक महत्‍वाकांक्षा को जनता बखूबी समझ रही है। यह दोनो राजनैतिक दल साथ भी रहेगें। और दोनों अपने-अपने दल के राजनीतिक प्रधानमंत्री भी तय करेगें। इन स्थितियों में अब अखिलेश यादव अपनी बुआ मायावती को क्या बनाएगें! मुख्यमंत्री या प्रधानमंत्री?

श्री शुक्ल ने कहा कि सपा मुखिया अखिलेश यादव महत्वाकाक्षाओं की पूर्ति के लिए झूठ बोलने लगे है। उत्तर प्रदेश की धरती पर समाजवादी पार्टी का अस्तित्व नगण्य हो गया है। अपने धूर विरोधी राजनीतिक दलों के आगे घुटने टेक कर गठबन्धन कर अवसरवाद की राजनीति करने वाले अखिलेश आखिर किस आधार पर मुलायम को बर्गला रहे है। यही काम अखिलेश यादव ने प्रदेश की जनता के साथ किया। सरकार में रहते समय जनता के कामों को भूला दिया जो वादे किये थे पूरे नहीं किये जिसकी वजह से जनता ने उन्हें सत्ता से बेदखल कर दिया।

प्रदेश प्रक्ता ने कहा कि 2019 में देश की जनता पुनः भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनाने जा रही है। सरकार की विकासोन्मोखी योजनाओं को जनता पसन्द कर रही है। आज विकास समाज के अन्तिम छोर पर खडे व्यक्ति तक पहुॅच रहा है। योजनाएं गांव, गरीब, किसान को केन्द्र में बनाई जा रही है।