उत्तर प्रदेश में 1400 अस्पताल एवं 17 मेडिकल कॉलेज प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत योजना से जुड़ चुके है। प्रदेश में आयुष्मान भारत योजना लागू होने के बाद कुल 11290 व्यक्ति इलाज के लिए भर्ती हुए, जिसमें 2605 व्यक्ति सामान्य इलाज के बाद स्वास्थ्य लाभ लेकर वापस हुए। 8685 व्यक्तियों का गम्भीर रोगों का इलाज हुआ। जिस पर 11 करोड़ 43 हजार 380 रूपये योजना के अन्तर्गत खर्च हो चुके है।

भाजपा प्रदेश प्रवक्ता मनीष शुक्ला ने कहा कि समाज के अन्तिम पायदान पर खड़े व्यक्ति को भी उत्तम स्वास्थ्य सुविधायें मिले इसके लिए मोदी सरकार लगातार प्रत्यनशील है। कल तक जो स्वास्थ्य सुविधाएं अमीरों को ही उपलब्ध थी, जैसे सम्पूर्ण कूल्हा प्रत्यारोपण, सम्पूर्ण घुटना प्रत्यारोपण, लीवर, किडनी का महंगा इलाज गरीब परिवार के लिए दिवास्वप्न थी, आज प्रधानमंत्री आयुष्मान योजना के अन्तर्गत सुलभ हो रही है।

श्री शुक्ल ने बताया कि आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के अन्तर्गत पुर्नर्वियोग के माध्यम से कुल प्रावविधानित धनराशि 440 करोड़ रूपये के सापेक्ष राज्यांश मद हेतु रूपये 176 करोड़ धनराशि की स्वीकृति राज्य सरकार के स्तर से जारी की जा चुकी है।

श्री शुक्ला ने बताया कि प्रधानमंत्री आयुष्मान योजना के अन्तर्गत प्रदेश में औसतन 300 से अधिक व्यक्ति प्रतिदिन लाभान्वित हो रहे है।