भारतीय जनता पार्टी प्रदेश अध्यक्ष डॉ० महेन्द्र नाथ पाण्डेय ने कहा कि जो लोग खुद को मसीहा बताते थे, जिन्होंने अपनी मूर्ति लगवा दी हो, स्वयं की देवी के रूप में पूजा करवाकर पूजित होने लगे हो, वह लोग गांव या दलित परिवार की चौखट को अछूत मानकर उससे दूर रहे। दलितों की चौखट और आंगन में जाकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भोजन करते है, भाजपा के वरिष्ठ पदाधिकारी व भाजपा कार्यकर्ता भोजन करते हैं तो जांत-पांत के नाम पर वोटों की ठेकेदार बनने वाली बसपा सुप्रीमों टिप्पणी समझ से परे हो जाती है। भाजपा की नीति सबका साथ-सबका विकास है, दलित, वंचित, शोषित उपेक्षित वर्ग को साथ लेकर भाजपा विकास की राजनीति करती है।

डॉ. पांडेय ने कहा कि बसपा सुप्रीमों दलित वोट का सौदा करके दौलत की बेटी बन गई, लेकिन भाजपा के लिए अंतिम छोर पर खड़े व्यक्ति को विकास की मुख्यधारा में जोड़ना राजनीतिक जिम्मेदारी है, एवं बिना भेदभाव के गरीब, द्रवित, वंचित, शोषित वर्ग को नारायण मान कर उनकी सेवा करना हमारा संस्कार है।