भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता मनीष शुक्ला ने कहा कि मातृ दिवस पर कांग्रेस ने भारत मां का अपमान किया है। कांग्रेस भारतीय संस्कृति और परम्परा का लगातार अपमानित करने वाली राजनीति करती रही है। पहले जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में देश को अपमानित करने वाले तमाम छात्रों के साथ कांग्रेस कंधे से कधा मिलकर खड़ी थीa और अब भारत का बंटवारा करने वाले जिन्ना के साथ कांग्रेस खड़ी है।

श्री शुक्ल ने कांग्रेस के सांसद शाशि थरूर के बयान कि भारतीय संविधान में बोलने की आजादी है। पर कहा कि कुछ भी बोलने की आजादी नहीं है। कांग्रेस ने इस आजादी के नाम पर कई बार देश को अपमानित किया है। श्री शुक्ल ने कहा की बोलने की संवैधानिक आजादी के साथ देश के प्रति हमारा क्या कर्तव्य है इसे भी सीख लेना चाहिए। देश को गाली देकर ही राजनीति करने की परम्परा कांग्रेस बंद करे।

प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि कांग्रेस के लिए देश भर में अब कहीं जगह बची नही है। जिसके नाते वह पार्टी हासिये पर चली गई है। उसकी तलाश में कांग्रेस अब शिक्षा के मंदिरों को अपना राजनैतिक अड्डा बनाना चाहती है। उसका यह मंसूबा भी अब पूरा नहीं होगा। अनेक विश्वविद्यलायों में कांग्रेस उन्माद पैदा करके अपनी पैठ बनाना चाहती है। यह बात विश्वविद्यलयों के छात्र समझ चुके है।

श्री शुक्ल ने कहा कि अलीगढ मुस्लिम विश्वविद्यालय में जिन्ना की तस्वीर 1938 से लगी है। यह बात सब जानते है। लेकिन आजादी के बाद कांग्रेस की सरकार लगातार कई दशको तक रही है। लेकिन भारत और पाकिस्तान के बंटवारे का हिमायती जिन्ना की यह तस्वीर कांग्रेस ने कभी नहीं हटवाई और अब जब देश इस तस्वीर को हटाना चाहता है तो कांग्रेस जिन्ना के समर्थको के साथ फिर खड़ी हो गई।