लखनऊ 09 मार्च 2018, भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ० महेंद्र नाथ पाण्डेय ने कहा कि सपा-बसपा का लेन-देन का गठबंधन है। सपा-बसपा दोनों ने ही अपने कार्यकाल में इस प्रदेश को दोनो हाथों से लूटा हैं इनके शासन काल में अपराध और भ्रष्टाचार अपने चरम पर था। योगी जी की सरकार आने के बाद से हमने प्रदेश में कानून का राज स्थापित किया है। आज अपराधी या तो जेल में है या फिर प्रदेश के बाहर आज जनता भाजपा के शासन काल में सुरक्षित महसूस कर रही है। सपा और बसपा दोनों ही पार्टियां जातिवाद और परिवारवाद की बात करती आई हैं। भारतीय जनता पार्टी सबका साथ सबका विकास के मूल मंत्र पर जनता के हितों के लिए काम करती है। हम किसी के साथ जाति, वर्ग, वर्ण और धर्म के आधार पर भेदभाव नहीं करते है।

डॉ० पाण्डेय ने कहा कि 11 माह के कार्यकाल में योगी सरकार ने किसानों का फसली ऋण माफ किया। बिचैलियों को हटाकर किसानों के खाते में सीधा भुगतान किया। गेहूँ, धान की रिकार्ड खरीददारी लगभग 5000 क्रय केन्द्रों को खोल कर किया। विचैलियों को हमने व्यवस्था से दूर किया है। हमने प्रदेश के गन्ना किसानों का पिछला सारा बकाया भुगतान किया है और वर्तमान उनकी फसल का सही मूल्य उनको 14 दिनों के भीतर मिल जाय यह सुनिश्चित किया है। आज बिजली की व्यवस्था सुचारू रूप से हम दे रहे है। 75 जिलों में बिजली प्रचुर मात्रा में उपलब्ध है।

डॉ० पाण्डेय ने कहा कि त्रिपुरा से हमारी जीत से भयभीत होकर सपा-बसपा का बेमेल गठबन्धन बना है यहां तक कि गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा के उपचुनाव में दोनों पार्टियों के शीर्ष नेताओं ने एक मंच पर भी साथ में नहीं खडे हुए। यहां तक कि विधानसभा के चुनाव में समाजवादी पार्टी के सहयोगी कांग्रेस पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष ने अखिलेश यादव पर सपा और कांग्रेस का गठबंधन तोड़ने का आरोप लगाया है।

श्री पाण्डेय ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता दोनों लोकसभा के उपचुनाव में जी जान से जुटे हुए है। बूथ से लेकर जिले के सभी कार्यकर्ताओं की टोलियां जनसम्पर्क अभियान चला रही है। बूथ के सभी कार्यकर्ताओं ने घर-घर सम्पर्क करने का अभियान पूरा कर लिया है। मेरी गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा क्षेत्र के मतदाताओं से अपील है कि भारी मात्रा में मतदान करे और भारतीय जनता पार्टी के दोनो प्रत्याशियों को भारी मतों से जिताकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के हाथों को मजबूत करें।